हल्दी के चमत्कारिक ज्योतिषीय प्रयोग

घर में रसोई घर में हल्दी का उपयोग कितना महत्वपूर्ण है, हल्दी के फायदे स्किन के लिए ये सब जानते है। गुरु ग्रह का प्रतिनिधित्व हल्दी से ही होता है। विवाह में भी हम सभी कहते की हाथ पीले हुए या नहीं। लेकिन क्या आप हल्दी के इन गुणों को जानते हो।

हल्दी विशेष प्रकार की औषधि है, जिसमें दैवीय गुण मौजूद होते हैं। विवाह में वर-वधु को हल्दी के फ़ायदे चढ़ाने के पीछे भी यही महत्व है कि उन्हें बाहरी बाधाओं से बचाया जाए साथ ही सेहत और सुंदरता के लाभ भी उन्हें मिले।

  • पूजा के समय कलाई में या गर्दन पर हल्दी के फ़ायदे का छोटा सा टीका लगाने पर बृहस्पति मजबूत होता है और वाणी में मजबूती आती है।
  • हल्दी का दान करना शुभ माना जाता है। इससे कई स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों का अंत होता है। गुरु ग्रह में अनुकूलता आती है।
  • पूजा के बाद माथे पर हल्दी का तिलक लगाने से विवाह संबंधी कार्यों में सफलता मिलती है।
  • हल्दी के फायदे और नुकसान घर की बाउंड्री की दीवार पर अगर हल्दी की रेखा बना दी जाए तो घर में नकारात्मक शक्तियों का प्रवेश नहीं होता।
  • नहाते समय अगर नहाने के पानी में चुटकी भर हल्दी डालकर नहाया जाए तो यह शारीरिक और मानसिक शुद्धता देती है। करियर में सफलता के लिए भी यह प्रयोग अचूक है।
  • हल्दी के फ़ायदे की गांठ पर मौली लपेट कर सिरहाने रखा जाए तो बुरे सपने नहीं आते। बाहरी हवा से भी बचाव होता है। हल्दी के चमत्कारिक ज्योतिषीय प्रयोग
  • हल्दी के प्रयोग से जीवन में संपन्नता आती है। यह मानस की नकारात्मकता दूर करती है। हल्दी के फायदे इन हिंदी इसीलिए इसे हवन में भी इस्तेमाल किया जाता है।
  • हल्दी की माला से कोई भी मंत्र जप किया जाए तो विलक्षण बुद्धि के स्वामी हो सकते हैं। हल्दी के चमत्कारिक ज्योतिषीय प्रयोग
  • गांठ वाली हल्दी को एक पीले धागे में बांधकर अपने बाजू या गले में पहन लें । कच्चा हल्दी खाने से क्या लाभ होता है? यह टोटका पीले पुखराज रत्न की तरह कार्य करता है, जो जातक बृहस्पति को मजबूत करना चाहते हैंहल्दी के फ़ायदे वे इसे अवश्य धारण करें ।हल्दी के फ़ायदे के चमत्कारिक ज्योतिषीय प्रयोग अगर आप भी हल्दी धारण करने का मन बना रहे हैं तो इसे केवल गुरुवार के दिन ही पहनें, क्योंकि यह कमजोर बृहस्पति को मजबूती प्रदान करने के एक रामबाण इलाज है ।

1 comment

Your email address will not be published.

9 − three =