गठिया रोग में परहेज

  1. दही , छाछ , पापड़, गुड़, तलेहुए व उडद से बने पदार्थ, अचार , पनीर , मिठाई , चावल , सुखामेवा , आलू , टमाटर, नींबू , चना, राजमा, चौलाई, सेम, ग्वारफली, अरवी , मक्का, चिकने भारी पदार्थ, गठिया रोग में परहेज मैदे व दूध से बने पदार्थ एवम चाय-कॉफी का सेवन न करें |
  2. विरुद्ध आहार जैसे – नमक, खट्टे पदार्थ, फल, दालें, शाक, अदरक , लहसुन, तुलसी आदि का दूध के साथ सेवन न करें |

  3. पूर्व में लिए अन्न का पाचन हो कर शरीर में हल्कापन आने व खुल कर भूख लगने से पहले फिर से अन्न ग्रहण न करें |
  4. दिन में सोना, अनुचित समय पर भोजन, रात्रि जागरण, खुली हवा में घूमना, फ्रीज का ठंडा पानी पीना ,सतत पानी में काम करना , चिंता करना आदिकारण से गठिया रोग उत्पन्न होता हैं | अतः इस से बचें |
  5. रसि से बुने हुए खाट या पलंग पर न सोयें |
  6. लगातार बैठे रहना, गद्दों पर तथा A.C , पंखा या कूलर की हवा में सोना, आराम प्रियता आदि का त्याग करें |

गठिया रोग (आर्थराइटिस) में परहेज बहुत महत्वपूर्ण होता है ताकि आप आपके रोग के साथ सहजता से जीवन जी सकें। निम्नलिखित उपाय आपको गठिया रोग के प्रबंधन में मदद कर सकते हैं:

  1. सक्रिय रहें: व्यायाम और शारीरिक गतिविधियों को नियमित रूप से अपनाने से आपके जोड़ों की सुधार हो सकती है। आप अपने चिकित्सक से सलाह लेकर सही व्यायाम योजना तय कर सकते हैं।
  2. सही आहार: आहार में संतुलित मात्रा में पोषक तत्वों को शामिल करें। आपको हेल्दी खाद्य पदार्थ जैसे फल, सब्जियां, अण्डे, दूध, दही, फ़िश, अखरोट, दालें आदि का सेवन करना चाहिए।
  3. वजन कम करें: यदि आपका वजन अधिक है, तो वजन कम करने का प्रयास करें। अधिक वजन आपके जोड़ों को और दर्द कर सकता है। अपने डॉक्टर से सलाह लेकर सही वजन प्रबंधन योजना तय करें।
  4. दवा का सेवन: अपने चिकित्सक द्वारा निर्धारित दवाओं का सही रूप से सेवन करें। यह आपके गठिया रोग के प्रबंधन में मदद करेगा और दर्द को कम कर सकता है।
  5. सही आहार: आहार एक महत्वपूर्ण घटक है गठिया रोग के प्रबंधन में। आपको संतुलित और पौष्टिक आहार का सेवन करना चाहिए जो आपके जोड़ों को स्वस्थ रखता है और सूजन को कम करता है। आपको हरी सब्जियां, फल, पूर्ण अनाज, अखरोट, मछली, दूध, दही, अदरक, लहसुन, हल्दी और विटामिन-संपन्न आहार जैसे पदार्थों का सेवन करना चाहिए। इसके अलावा, उबले हुए मटर, आलू, गाजर, धनिया, पालक, मेथी, सरसों के तेल, जीरा, सोंठ और काली मिर्च जैसे आहार में सुधार कर सकते हैं।

  6. वजन प्रबंधन: वजन की नियंत्रण रखना गठिया रोग के लिए महत्वपूर्ण है। अधिक वजन जोड़ों पर अतिरिक्त दबाव डाल सकता है और दर्द को बढ़ा सकता है। यदि आपका वजन अधिक है, तो वजन कम करने के लिए व्यायाम करें और संतुलित आहार लें। आपको सख्तता से अपने डॉक्टर की मार्गदर्शन पर ध्यान देना चाहिए, क्योंकि कई बार गठिया रोग के लिए वजन कम करने की आवश्यकता होती है।

  7. उच्च सीधे बैठने वाली सीट: यदि आप दिनभर बैठे रहते हैं, तो उच्च सीधे बैठने वाली सीट का उपयोग करें। यह आपके पीठ को सही समर्थन देती है और जोड़ों पर दबाव को कम करती है।

  8. सही पॉस्चर: अच्छा पॉस्चर रखने से आपके शरीर का बोझ सही ढंग से वितरित होता है और जोड़ों पर अतिरिक्त दबाव को कम करता है। सीधा खड़ा होने का पॉस्चर, बैठने और सोने का सही ढंग होना चाहिए।

  9. विश्राम और सुखद नींद: अच्छी नींद प्राप्त करना और स्ट्रेस को कम करना आपके गठिया रोग के प्रबंधन में महत्वपूर्ण है। सुनिश्चित करें कि आप रात में पर्याप्त समय नींद प्राप्त करते हैं और रात को आरामदायक माहौल में सोते हैं। ध्यान, मेधा शक्ति योग और प्राणायाम के अभ्यास करके आप अपने मन को शांत कर सकते हैं और सुखद नींद प्राप्त कर सकते हैं।

यदि आप गठिया रोग से पीड़ित हैं, तो अपने चिकित्सक से व्यायाम, आहार, दवा और प्रबंधन के लिए विस्तृत मार्गदर्शन प्राप्त करें। वे आपको सबसे अच्छा सलाह दे सकते हैं और आपकी स्थिति को बेहतर बनाने में मदद कर सकते हैं।

Add comment

Your email address will not be published.

12 + four =