हर्निया के कारण और उपाय

हर्निया के कारण और उपाय, ज्योतिष विज्ञानं के अनुसार काल पुरुष की कुंडली में आंत का संबंध षष्ठ भाव और कन्या राशि से है। कन्या राशि का स्वामी बुध होता है और षष्ठ भाव का कारक ग्रह मंगल होता है।हर्निया कारण और उपाय इसलिए षष्ठ भाव, षष्ठेश, षष्ठकारक मंगल, बुध, लग्न-लग्नेश जब दुष्प्रभावों में रहते हैं, तो आंतों से संबंधित रोग होते हैं, जिनमें हर्निया रोग भी शामिल है।

मानव शरीर के कुछ अंग शरीर के अंदर खोखले स्थानों में स्थित है। इन खोखले स्थानों कोमानव शरीर के कुछ अंग शरीर के अंदर खोखले स्थानों में स्थित है। इन खोखले स्थानों को देहगुहा” (body cavity) कहते हैं।हर्निया कारण और उपाय देहगुहा चमड़े की झिल्ली से ढकी रहती है। इन गुहाओं की झिल्लियाँ कभी-कभी फट जाती हैं और अंग का कुछ भाग बाहर निकल आता है। ऐसी विकृति को हर्निया (Hernia) कहते हैं।”देहगुहा” (body cavity) कहते हैं। देहगुहा चमड़े की झिल्ली से ढकी रहती है।हर्निया कारण और उपाय इन गुहाओं की झिल्लियाँ कभी-कभी फट जाती हैं और अंग का कुछ भाग बाहर निकल आता है। ऐसी विकृति को हर्निया (Hernia) कहते हैं।

ऐसा उपर्युक्त भाव, राशि एवं ग्रहों के दुष्प्रभाव और निर्बलता के कारण होता है। जब इन ग्रहों की दशा-अंर्तदशा रहती है और संबंधित ग्रह का गोचर विपरीत रहता है, तो हर्निया, अर्थात ‘आंत का उतरना’ रोग होता है।

हर्निया का उपाय :- *गरम पानी सेवन

*हर्निया राहत के विशेष योगासन *सेब का सिरका *दालचीनी सेवन जरुरी *कैमोमाइल चाय नवीनतम *बेकिंग सोडा से अति लाभ *एलो वेरा जूस भी लाभकारी *डॉक्टर और ऑपरेशन      हम भाग्य के ज्ञाता है            भाग्य विधाता नही

 

हर्निया एक मांसपेशियों की समस्या है जब शरीर के एक भाग की तंत्रिका परत या उससे बाहर निकल जाती है। इसका मुख्य कारण मांसपेशियों की कमजोरी होती है, जिससे वे दबाव और तनाव के तहत छेदों में बाहर निकलती हैं।  जब हम हर्निया की बात करते हैं, तो यह महत्वपूर्ण है कि हम अपने शरीर के साथ संवेदनशीलता बरतें और सख्ती से नजर रखें। कुछ आसान उपायों का पालन करके हम हर्निया के कारणों को कम कर सकते हैं और अपनी स्वास्थ्य को सुरक्षित रख सकते हैं। कुछ प्रमुख हर्निया के प्रकार निम्नलिखित हैं: हर्निया के कारण और उपाय

  1. इंगुइनल हर्निया: इसमें मांसपेशियाँ इंगुइनल कनाल के माध्यम से आंतरिक निकलती हैं। यह पुरुषों में अधिक प्रमुख होती है।

  2. फेमरल हर्निया: इसमें मांसपेशियाँ फेमरल कनाल के माध्यम से निकलती हैं। यह महिलाओं में अधिक प्रमुख होती है।

  3. उदरीय हर्निया: इसमें मांसपेशियाँ पेट के उदरीय छेदों के माध्यम से निकलती हैं।

हर्निया के लिए कुछ सामान्य उपाय निम्नलिखित हैं:

  1. वजन प्रबंधन: अधिक वजन हर्निया के लिए एक प्रमुख कारक हो सकता है। वजन कम करने और स्वस्थ वजन में बनाए रखने से हर्निया के दबाव को कम किया जा सकता है।

  2. सही पोषण: सही और पौष्टिक आहार का सेवन करना हर्निया के लिए महत्वपूर्ण है। प्रोटीन, फल, सब्जियां, अण्डे, फाइबर, हरा चाय, लेमन और अन्य पोषण संबंधित तत्वों की अच्छी मात्रा लें।

  3. योग और व्यायाम: योग और व्यायाम हर्निया के लिए लाभकारी हो सकते हैं। व्यायाम और प्राणायाम के द्वारा मांसपेशियों को मजबूत और लचीला बनाए रखने में मदद मिलती है।

  4. सही बैठना और उठना: सही पोस्चर में बैठने और उठने से हर्निया के दबाव को कम किया जा सकता है। ध्यान रखें कि आप सीधा और यथासंभव समर्थनपूर्ण कुर्सी या सीट पर बैठें।

  5. सही उपचार: हर्निया की गंभीर स्थिति में चिकित्सा सलाह लेना आवश्यक हो सकता है। यदि उपाय और प्राकृतिक उपचारों से लाभ नहीं हो रहा है, तो चिकित्सा विशेषज्ञ द्वारा सलाह लें और आवश्यक चिकित्सा उपचार कराएं।

  6. सही भोजन: अपने आहार में पोषणपूर्ण तत्वों को शामिल करें और प्रोटीन, फल, सब्जियां, अण्डे और फाइबर युक्त आहार का सेवन करें। इसके साथ ही तेल और तले हुए चीज़ों का सेवन कम करें और प्रकृतिक और स्वस्थ आहार की ओर ज्यादा ध्यान दें।हर्निया के कारण और उपाय

  7. संतुलित वजन बनाए रखें: अतिरिक्त वजन हर्निया के लिए एक महत्वपूर्ण कारक हो सकता है। अगर आप अतिरिक्त वजन रखेंगे, तो आपके शरीर पर ज्यादा दबाव पड़ेगा, जिससे हर्निया का खतरा बढ़ सकता है। वजन प्रबंधन के लिए नियमित व्यायाम करें और स्वस्थ जीवनशैली अपनाएं। हर्निया के कारण और उपाय

  8. सही पोषण: हर्निया को कम करने के लिए आपके शरीर को सही पोषण की आवश्यकता होती है। सही पोषण के लिए फल, सब्जियां, पूरे अनाज, दूध, दही, मखाने, नट्स, सीज़नल फल, अंडे, अखरोट और स्वस्थ खाद्य पदार्थों का सेवन करें। इनमें पोटेशियम, विटामिन C, विटामिन ई, फाइबर, प्रोटीन और अन्य महत्वपूर्ण पोषक तत्व पाए जाते हैं जो हर्निया को कम करने में मदद कर सकते हैं।

  9. व्यायाम: योग और व्यायाम हर्निया के लिए लाभकारी हो सकते हैं। योग करने से शरीर की मांसपेशियों को मजबूत और लचीला बनाए रखने में मदद मिलती है और हर्निया के दबाव को कम कर सकती है। योग के साथ ही व्यायाम जैसे कि चलना, जॉगिंग, स्विमिंग, साइकिलिंग और एरोबिक्स आदि भी करें। हर्निया के कारण और उपाय

  10. ही शरीर की मेकानिक्स: हर्निया को कम करने के लिए शरीर की सही मेकानिक्स का पालन करना आवश्यक है। सही पोस्चर में बैठें, उठें, चलें और जितना हो सके सीधे बैठने और उठने का प्रयास करें। सही तरीके से बैठने और उठने से हर्निया के दबाव को कम किया जा सकता है। हर्निया के कारण और उपाय

यदि आपको हर्निया से जुड़ी किसी भी समस्या हो रही है, तो अपने चिकित्सक से परामर्श लें और विशेषज्ञ की मार्गदर्शन में उपाय ढूंढें। वे आपकी स्थिति को समझेंगे और उपचार के विकल्पों के बारे में आपको बेहतर सलाह देंगे। स्वस्थ रहें और एक स्वस्थ जीवनशैली अपनाएं, जिससे हर्निया के दबाव को कम किया जा सकता है और आपकी स्वास्थ्य सुधार सकती है।

Add comment

Your email address will not be published.

two × 1 =