युरिक एसिड

जब शरीर में यूरिक एसिड की सामान्य व यूरिक एसिड की मात्रा सामान्य से अधिक हो जाती है तो गठिया रोग हो जाता है। कुछ विशेष प्रोटीन तत्वों प्युरिन्स पदार्थों का पाचन ठीक प्रकार से नहीं हो पाता है तो यह पदार्थ यूरिक एसिड में बदल जाते हैं। ऐसी अवस्था में शरीर में यूरिक एसिड की सामान्य मात्रा शरीर में अधिक हो जाती है और यह पदार्थ शरीर के बाहर जाने के अलावा अन्दर ही रहने लगता है। शरीर में यूरिक एसिड की सामान्य के क्रिस्टल जोड़ों में विशेष रूप से, गुर्दे तथा त्वचा में जमा होने लगता है। ये क्रिस्टल सुईयों की तरह चुभने लगते हैं जिसके कारण यह रोग हो जाता है।
कारण:
❉ यह रोग अनुवांशिक भी हो सकता है और कुछ जाति के व्यक्तियों में यह अधिक होता है।
❉ मांस-मछली, किसी खास ब्रांड की शराब तथा अधिक पौष्टिक भोजन का सेवन करने से भी गठिया रोग हो जाता है।
❉ भोजन में अधिक प्रोटीन का सेवन करने से ।
❉ अधिक दवाईयों का सेवन करने के कारण भी यूरिक एसिड की मात्रा सामान्य से अधिक हो जाती है।
❉श्रम तथा व्यायाम की कमी होने के कारण भी गठिया रोग हो जाता है।
❉शरीर में कब्ज तथा गैस बनाने वाले पदार्थों का खाने में अधिक सेवन करने के कारण भी यूरिक एसिड बढ़ गठिया रोग हो सकता है शरीर में यूरिक एसिड की सामान्य जैसे- मिर्च-मसाले, नमक, दाल, मछली, अण्डे तथा मांस आदि।
❉शरीर में यूरिक एसिड की सामान्य इसके अलावा शरीर में खून की कमी, शारीरिक कमजोरी तथा बुढ़ापे में हड्डियों की चिकनाई कम होने के कारण भी यह रोग उत्पन्न होता है।

यूरिक एसिड बढ़ने के लक्षण :

1-इस रोग का प्रभाव रोगी में अचानक ही दिखने लगता है। 90 प्रतिशत व्यक्तियों को यह रोग पैर के अंगूठे से शुरू होता है। जब अंगूठे में दर्द होता है तो इस रोग के कारण अंगूठा लाल हो जाता है। इस रोग के कारण अंगूठे में सूजन तथा बहुत तेज दर्द होता है।

2- इस रोग के कारण रोगी व्यक्ति को बुखार भी हो सकता है।

3-यह रोग अंगूठे के अलावा घुटनों, कोहनियों तथा कानों के बाहरी भाग में भी सूजन के रूप में हो सकता है।

4-इस रोग की सूजन का उपचार न भी किया जाए तो भी यह सूजन कुछ दिनों के अन्दर अपने आप ही ठीक हो जाती है।

5-इस रोग के कारण दर्द दिन में कम तथा रात में अधिक होता है।

6-गठिया का रोग नियमित रूप से व्यायाम करने, अधिक पानी पीने तथा उन पदार्थों को ग्रहण करने, जिनसे शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा कम हो जाती है, से ठीक हो जाता है।

7-यूरिक एसिड का जमाव गुर्दे में पथरी को बनाने में मदद कर सकता है।

Add comment

Your email address will not be published.

2 + six =