साढ़ेसाती ढैय्या का कुण्डली पर प्रभाव

17 जनवरी 2023 कर्मफल देवता शनिदेव अपनी वर्तमान मकर राशि को छोड़कर अपनी मूलत्रिकोण कुंभ राशि में प्रवेश करेंगे।

यहां शनि देव 26 महीनों तक रहेंगे

गोचर में शनिदेव की साढ़ेसाती का प्रभाव धनु /मकर/ और कुंभ /राशि के जातक देख रहे हैं
17 जनवरी से इस साढ़ेसाती के चक्कर से धनु राशि पूरी तरह बाहर निकल रही है
साढ़ेसाती ढैय्या का कुण्डली पर प्रभाव आचार्य आनन्द जालान के अनुसार अब धनु राशि के जातक आपके पास पूरी तरह से निश्चिंत होकर कार्य करने का समय आ रहा है और ये पूरे ढाई साल रहेगा
उसके बाद धनु राशि पर शनि की ढैया लगेगी लेकिन उसमें अभी ढाई साल का समय है
मकर राशि के लिए उतरती साढ़ेसाती का प्रभाव रहेगा जो कि अंतिम ढाई साल बचे हुए हैं
यहां मकर राशि के जातकों के लिए साढ़ेसाती ढैय्या का कुण्डली पर प्रभाव शनि देव 17 जनवरी से आपके दुत्तीय भाव में रहेंगे जो कि धन परिवार वाणी से संबंध रखता है
यहां शनि देव बेफिजूल के खर्चे आप खुद अपने ही पैरों पर कुल्हाड़ी मारेंगे हालांकि ये राशि शनिदेव की मूल त्रिकोण राशि है तो नुकसान थोड़ा कम होगा लेकिन आप खुद ही अपने धन का नाश होते हुए देखेंगे और ये ज्यादातर आपकी वाणी के कारण ही होगा आप अपनी भाषा के कारण ही नए शत्रु बनाएंगे परिवार में कलह का माहौल हो सकता है इसका कारण भी आप ही हो और ये शत्रुता ही आपके लिए नुकसानदेह साबित होंगी
कुंभ राशि के जातकों के लिए 17 जनवरी से साढ़ेसाती का मध्य चरण चलेगा जो कि पहले ढाई साल अब खत्म होंगे चंद्र राशि से देखें कुंभ राशि के जातकों के लिए 17 जनवरी से शश नाम का महापुरुष राजयोग भी बनेगा लेकिन देखा जाए कुछ मामलों में भी आपको सावधानी रखने की जरूरत है जैसे कि यहां बैठे शनि की तीसरी और नीच दृष्टि आपके मित्रों भाई-बहन पर रहेगी सप्तम दृष्टि दांपत्य जीवन पार्टनरशिप व्यापार भाव पर रहेगी और दशम दृष्टि कार्य स्थान पर पड़ेगी इन तीनों भाव से संबंधित समस्या आप महसूस करेंगे आपके कार्य निश्चित रूप से धीमी गति के होंगे जहां मित्र भाई बंधु अपना वचन नहीं निभाएंगे इसी का असर आपके व्यापार भाव पर पड़ेगा दांपत्य जीवन पर पड़ेगा यह सब चीजें लेकर आप कार्यस्थल पर भी परेशानी देखेंगे।

मीन राशि के जातकों के लिए शनिदेव की साढ़ेसाती का प्रभाव शुरू होगा 

आपकी राशि से शनि देव लाभ भाव और खर्च भाव के स्वामी होकर आपकी राशि से बारहवें भाव मे विराजमान होंगे
बेफीजुल के खर्चे और ये खर्चे अकस्मिक भी आ सकते हैं जैसे आपने सोचा मेरा एक हजार खर्चा होने वाला है वहां जाकर आपको पता चलेगा कि ये खर्चा तो 1500 / 2000 का भी हो गया
पुराना कोई केस दबा हुआ था किसी मामले को लेकर कोर्ट केस में आपकी परेशानी का कारण बन सकता है कोई बीमारी के कारण अस्पतालों में भी आपके चक्कर लग सकते हैं

कुल मिलाकर आपके जमा किए हुए पैसे खर्च होंगे कुटुंब परिवार में कलह का माहौल बनेगा पिता के स्वास्थ्य में कोई ऊंच-नीच आ सकती है बेफिजूल की यात्राएं जहां जाने की कोई जरूरत नहीं होगी वैसी यात्राएं आप करेंगे साढ़ेसाती ढैय्या का कुण्डली पर प्रभाव मानसिक तौर पर परेशानी का कारण समझ में नहीं आएगा इन सब चीजों से आपको बचने की आवश्यकता रहेगी
ये वो राशियां थी जो साढ़ेसाती के प्रभाव में रहेंगी
साढ़ेसाती ढैय्या का कुण्डली पर प्रभाव अभी के समय में मिथुन राशि और तुला राशि शनिदेव की ढैया देख रहे थे
इन दोनों में से मिथुन राशि अब पूरी तरह से शनिदेव की ढैया से बाहर होगी
यहां 17 जनवरी से कर्क राशि के जातक शनिदेव की ढैया में प्रवेश करेंगे
कर्क राशि के लिए शनि देव सप्तम और अष्टम के स्वामी होकर अष्टम भाव में गोचर करेंगे
या साढ़ेसाती ढैय्या का कुण्डली पर प्रभाव शनिदेव हर एक कार्य में आपके लिए विलंब उत्पन्न करेंगे दांपत्य जीवन में परेशानी बिजनेस पार्टनरशिप में व्यापार में कुटुम परिवार में कलह का माहौल कार्यक्षेत्र पर अपने सहकर्मियों से भी आपके रिश्तो में खटास
यह सब चीजें आपकी मानसिक परेशानियों का कारण बनेगी और अगर कर्क राशि के जातकों की जन्मपत्री में जन्म से ही शनि चंद्रमा का किसी भी तरह का संबंध बना हुआ है तो ये परेशानी ज्यादा घातक रूप लेकर आ सकती है
ये समय आने वाले ढाई साल कर्क राशि के लिए परेशानी का कारण बनेंगे

वृश्चिक राशि भी शनिदेव की ढैया में प्रवेश करेगी
शनिदेव आपकी राशि से चतुर्थ भाव में गोचर करेंगे साढ़ेसाती ढैय्या का कुण्डली पर प्रभाव आपको भी हर तरह से परेशानी का सामना करना होगा कुटुम परिवार में आपस में रिश्तो में खटास छोटी-छोटी बातों को लेकर अनबन की स्थिति और साढ़ेसाती ढैय्या का कुण्डली पर प्रभाव यही बातें आगे जाकर कुछ बड़ी परेशानी आपके लिए बनेंगी अपनी मां के स्वास्थ्य का ख्याल रखें
वाहन खरीदना है अच्छी तरह से जांच परख लें
कोई प्रॉपर्टी कोई मकान के कागजात देख कर ही साइन इत्यादि करें साढ़ेसाती ढैय्या का कुण्डली पर प्रभाव जल्दबाजी में निर्णय आपके लिए परेशानी का कारण बनेगा किसी भी तरह के लोभ लालच में साढ़ेसाती ढैय्या का कुण्डली पर प्रभाव लुभावनी स्कीम में किसी मित्र अपने भाई बंधुओं के कहने पर किसी भी तरह का निवेश ना करें
यहां से शनिदेव की तीसरी और निच दृष्टि रोग ऋण कर्जे शत्रु से संबंध रखते हैं साढ़ेसाती ढैय्या का कुण्डली पर प्रभाव भाव पर नए शत्रु बनाना कोई रोग निकल कर आना उच्च अधिकारियों के साथ रिश्तो में खटास की स्थिति और दसवीं दृष्टि आपकी राशि पर ही रहेगी जो आप के मान सम्मान और स्वास्थ्य को भी हानि पहुंचा सकती है
कन्या राशि पर जब शनि राशि से पंचम भाव में गोचर कर रहे थे तब मैंने अपनी बोहोत सी पोस्टों में यह बताया था कि कन्या राशि के जातक निरंतर स्वास्थ्य में अपने हर कार्य में परेशानी देख रहे हैं
और ऐसी बहुत सी कुंडलियां मैंने उस दौरान देखी
अब वही स्थिति तुला राशि के जातकों के लिए भी 17 जनवरी 2023 से बन रही है यहां इनके लिए शनिदेव राशि से पंचम भाव में गोचर करेंगे
तुला राशि के जातकों के लिए अगर आप की जन्मपत्री में शनि देव किसी भी तरह से चंद्रमा से संबंध बना रहे हैं साढ़ेसाती ढैय्या का कुण्डली पर प्रभाव चाहे वह दृष्टि संबंध हो युति संबंध हो तो यह परेशानी निश्चित रूप से आपको होगी
यहां शनिदेव पंचम में बैठकर सबसे पहले आपकी बुद्धि आपके ज्ञान को भ्रमित करेंगे गलत निर्णय से यह आपके व्यापार को हानि दांपत्य जीवन में परेशानी लाभ होने में देरी बना बनाया काम बिगड़ ना परिवार में कलह का माहौल संचित धन का नाश
इन सब परेशानियों से आपकी मानसिक शांति भंग होगी इस अवस्था में हो सकता है आप अपने परिवार से दूर जा सकते हैं कोई ऐसा निर्णय जो व्यापार या नौकरी चेंज करने का भी हो सकता है
कुल मिलाकर यह ढाई साल आपको सावधानी और सतर्कता से निकालने होंगे

मित्रों ये थी शनिदेव की साढ़ेसाती में और ढैया में प्रवेश करने वाली राशियों और उन पर शनि देव का प्रभाव और तुला राशि में शनि देव राशि से पंचम भाव में गोचर करने पर इनको भी सावधानी बरतनी होगी।

 

Add comment

Your email address will not be published.

sixteen + 7 =