उदर आकर्षण आसन से पैट कम करें

प्रत्येक व्यक्ति की इच्छा अपने आप को सुंदरतम व आकर्षक दिखने की होती है। मेरु आकर्षण आसन पर व्यस्त जीवन और खानपान के बीच उसे अपने शरीर का ज्यादा ध्यान नही रह पाता फलस्वरूप पेट ना चाहते हुए भी अनावश्यक रूप से बाहर निकल आता है!

उदार आकर्षण आसन दो शब्दों से मिलकर बना है उदार + आकर्षण अर्थात पेट तो सुव्यवस्थित रख सुंदर दिखने के लिए किया जाने वाला आसन। इस आसन के प्रतिदिन अभ्यास से अनावश्यक चर्बी कम हो पेट आकर्षक होता है।

उदार आकर्षण योग की विधि

1. सर्वप्रथम एक सुरक्षित, समतल, शांत और स्वच्छ स्थान पर आसन बिछाकर उकड़ू बैठ जाये।
2. फिर दोनों हाथों को अपने दोनों घुटनों पर रख देवे।
3. एक लंबा गहरा श्वास भरें और श्वास छोड़ते हुए, बाये घुटने को दाएं पैर के पंजे के पास जमीन पर लगाए।
4. इस स्थिति में बाया पैर का पंजा जंघा के नीचे होकर पीछे दिखाई देगा।
5. अब दाहिये हाथ से दाहिने घुटने को अपने पेट की ओर दबावे, मेरु आकर्षण आसन ध्यान रहे बाये पैर का पंजा जमीन की तरफ और तलवा आसमान की तरफ रहे।
6. दाहिने घुटने को पेट की तरफ दबाते हुए सिर गर्दन को दाहिये की ओर जितना हो सके मोडे।
7. कुछ पल इसी स्थिति में ठहरकर सॉस लेते हुए वापस सामने की ओर सिर घुमा लेवे।
8. फिर श्वास छोड़ते हुए गर्दन व सिर को बाये ओर मोड़ें साथ ही घुटने से उदार को जितना हो सके दबाए।
9. कुछ पल फिर इसी स्थिति में रह कर पुनः उदर आकर्षण आसन से पैट कम करें श्वास लेते हुए सिर सामने की ओर कर ले।
10. यही क्रिया अब दूसरे पैर के साथ दोहरावे, इस प्रकार ये एक चक्र हुआ।
11. प्रारंभिक स्थिति में 3 से 5 सेकंड श्वास को बाहर रोककर रखें, मेरु आकर्षण आसन धीरे से श्वास भरते हुए वापस आए। शुरुआत में तीन से पांच चक्र ही अभ्यास करे।
12. जिन्हें उकड्डू बैठने में परेशानी है वे दीवार के सहारे से इस आसन का अभ्यास कर सकते है।

उदार आकर्षण योग के लाभ

1. यह आसन हमारे पेट के लिए बहुत ही अच्छा आसन है।
2. पेट के समस्त रोगों का नाश करता है।
3. हमारे पेट की पाचन तंत्र के अंगों की मालिश करता है।
4. आंतो को स्वस्थ करता है।
5. कब्ज के लिए रामबाण आसान है।
6. यह शंख प्रक्षालन का एक आसान है।

Add comment

Your email address will not be published.

8 − 2 =